बंध मकान में कजिन बहन का सिल तोडा


दोस्तों जम्मू Antarvasna से आप के दोस्त सुदीप का आप को बहुत बहुत प्यार. मेरी ये चोदने की पहली कहानी हे. ये स्टोरी हे मेरी और मेरी एक कजिन दीपाली की. ये एक साल पुरानी बात हे. उस टाइम मेरी उम्र 23 साल की थी और मेरी कजिन 18 साल की.

वो क्या गजब की चीज थी. गोरा रंग, परफेक्ट फिगर, उसके बूब्स ज्यादा बड़े नहीं थे पर आग लाहने के लिए काफी ही थे. वो गाँव में रहती थी और मैं भी वहाँ जाता रहता था. पहले तो मुझे उसके लिए ऐसी कोई गन्दी फिलिंग नहीं थी. लेकिन लास्ट इयर जब मैं उसके वहां गया तो उसे देखते ही पागल हो गया. उसको चोदने का मन तो होता था पर ये सब इतना आसान भी नहीं था.

मैंने सोचा की की कोशिश तो करनी चाहिए एक बार. तो मैंने अपनी तरफ से कोशिश चालु कर दी. जहा वो जाती मैं उसे फोलो करता था. वो उस टाइम 12वी में पढ़ती थी और स्कुल जाती थी. तो मैं उसे छोड़ने भी चला जाता था और छुट्टी के टाइम उसे लेने के लिए स्कुल पर पहुँच जाता था.

स्कुल से घर कोइ एक किलोमीटर दूर था. और रस्ते में एक घर था जो बहुत टाइम से बंद ही था. वो रास्ता पैदल ही चलना पड़ता था. मुझे जब मौका मिलता था तो मैं उसके बूब्स की तरफ झाँकने का कोई भी मौका नहीं छोड़ता था. वो घर में अक्सर टी शर्ट और ट्राउजर पहनती थी.

एक दिन वो मोर्निंग में स्कुल जाने के लिए रेडी हो रही थी. तो मैंने उसे कपडे बदलते हुए देख लिया. क्या बॉडी थी उसकी 32-28-32 ये फिगर होगी उसकी. एक कच्ची कलि के जैसी सेक्सी लगती थी तो.

यह कहानी भी पड़े ब्रिटेन में सीरियन लड़की संग प्यार भरे लम्हे

उस टाईम के बाद तो जैसे मुझे उसे चोंदने का भूत सवार हो गया था. फिर तो मैंने उसके पास आने के तरीके ही ढूंढता रहता था और किसी न किसी बहाने से उसे छूने की कोशिश करता.

एक दिन की बात हे वो स्कुल जाने के लिए निकली तो मैं भी उसके पीछे पीछे चला गया. रस्ते में मैंने उसे कहा की आज स्कुल मत जाओ हम घुमने चलते हे. तो उसने मना कर दिया. पर मेरे थोड़े जोर देने पर वो मान गई. और मेरी अच्छी किस्मत से उसी टाइम भी बारिश भी चालू हो गई. तो हम भीगने से बचने के लिए उस घर में चले गए. वो बोली की अब हम कहा घूमेंगे इस से अच्छा हे की मैं स्कुल चली जाती हूँ.

तो मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और कहा की एक बात बोलू? उसने कहा हां बोलो ना. तो मैंने उस से कहा की तू बहुत सुंदर हे. तो वो थोडा हंसी बट उसे डर भी लगा की क्यूँ मैं उसे ऐसा कह रहा था.

उसने हाथ छुड़ाने की कोशिश की पर मैं कहा छोड़ने वाला था. वो बोली की छोड दो मेरा हाथ प्लीज़ मुझे स्कुल जाना हे. मैंने कहा की आज तो तू कही नहीं जायेगी. वो घबरा गई तो मैंने उसे अपनी तरफ खिंचा और हग कर लिया. वो छुडाने के की कोशिश करने लगी और बोली की ये क्या कर रहे हो आप, प्लीज़ मुझे जाने दो मैं आप की कजिन हूँ!

तो मैंने कहा जब से मैं यहाँ आया हु इस दिन का ही वेट कर रहा था और आज ये दिन आया तो कैसे छोड़ दूँ तुझे!

यह कहानी भी पड़े कॉलेज के लड़कों ने मुझे चोदकर रंडी बनाया

मैंने अब उसे किस करना चालू कर दिया. और एक हाथ को उसके देसी बूब्स के ऊपर रख दिया. वो अभी भी छूटने के लिए लिए पूरा जोर लगा रही थी. फिर मैंने धीरे से हाथ उसकी ब्रा के अन्दर कर दिया और बूब्स को प्रेस करने लगा. मेरे होंठ उसके होंठो को चूस रहे थे जिस वजह से वो कुछ बोल नहीं पा रही थी. बट छूटने के लिए कोशिशे चालु ही थी उसकी.

फिर मैंने उसकी सलवार खोल दी और मैंने अपना एक हाथ उसकी पेंटी में रख दिया. औरे उसके ऊपर से ही पुसी को रब करने लग गया. वहां रब करते करते मैंने हाथ उसकी पेंटी के अंदर डाल के पुसी को रब करना चालू कर दिया.

जैस ही मैंने उसकी पुसी को छुआ, उसके मुहं से आह निकल पड़ी. रब करते करते मैंने एक ऊँगली उसकी पुसी के अन्दर डाल दी और उसे अन्दर बहार करने लगा. थोड़ी ही देर में वो गरम हो गई और अब आहिस्ता आहिस्ता उसकी छूटने की कोशिश बंद हो गई और वो मेरा साथ देने लग गई. फिर मैंने उसकी कमीज खोल दी. अब वो मेरे सामने ब्रा और पेंटी के अन्दर थी. उसका गोरा बदन और गोरी टाँगे!

मैंने उसके पुरे बदन को अपने होंठो से छुआ और फिर उसे किस करना चालू कर दिया, और एक हाथ से उसके बूब्स दबाने लगा. अब वो भी मेरा साथ दे रही थी. मैंने उसकी ब्रा भी उतार दी. अब उसके बूब्स मेरे सामने थे. मैं उसे एक तरफ ले गया और वहां लिटा दिया.

और मजेदार सेक्सी कहानियाँ:

Pages: 1 2

error: Content is protected !!

Online porn video at mobile phone


मैं हचक कर चुदीSex kahni terenकुर्सी पर पापा से चुदी सेक्स स्टोरीजdady ne mujhe 11ench ke land se choda stori and stori .comwwwxxx.xv.and.hindi.storisपापा आंटी की चुदाईमेरी कमला भाभी कि प्यास बझाईआंटी ने दिलवाया अपनी सहेली कि गाडआंटी ने माँ को चुदवायापहला सेख्स अनुभवchuta kd lrki xxxbina undergarment wali ki antarvasnaलड़की की चूतसांस समीर हिंदी सेक्स कहानीचुदहिंदी सेक्से दीदी की मोठे मोठे गण्डभीड़ में मोटी सास के चूतड़ों का मज़ा स्टोरीचची की पेटीकोट का नाड़ामहिला और सर का चुदाईभाभी चूतड छेदSex bare chuchi and chut or bare landBhen kapde chenj xxx videoतन्हाई रूपाली सेक्सचुदxxx sex in bhabhi suhagrat rubdi khanniपेलो ना मुझे लण्ड सेbhai behan ke chodneki kahaniya avaje nikalke chndnaचुतhindi kahani aunty ne dildo se mera gand maraभाभी गयी मूतने चुपके क्सक्सक्स वीडियोXxx video 8salcmo 2018हिन्दी गंदी कहानी में चुद गयी चौकीदार से May chikhti wo chodta raha hindi kahaniyaChoot ka jhrana antravasanamama bhanji ke pyare anterwaanaचोदा चोदी फोटोमेरे कमपुटर सेंटर पर मेरी बीवी की चुदाई देखीस्कूल गर्ल सेक्सsex bideo bhai ne bahen ko patk ke chudai ki dabkeबोल बोल नहीं बोलती कहानियां डॉट कॉमभाभीकीचुदाईbhabine chudai sikhai hindiमज़बूरी में अंजन लैंड से चुदाई कहानीचाचा ने ब्रा पहनेmummy aur mummy ki beti ki jhhat banai hindi sex kahaniaपड़ोसन छूट की स्टोरीsax.kahane.dost.mame.keFacebook friend ki chudaiभाभीभोसड़ी15Bars ki ladki ki chudai ki kahani Hindi meभाई ने छूट की ओपनिंग कीbaju vali ki malkin x kahaniऐसा मोटा लंड लिया कि बुर खून से लाल हो गयाphim xes pham bang bangसाया उठा कर चाँदनी रात मे चुदवाईdekha kamuktaताई चुदाई की कहानीgaidanchoi.xxबाबा हिंदी सेक्स स्टोरीबेटी के गाडँ मे लँङ डाल दियाअन्तर्वासना कामिनी की चुदाईChuchi ko rang se hara kar diaब्रा के कप्स मुझे साफ़ साफ़ नज़र आ रहे थे sex story in hindiपेटिकोट ऊठाकर चुत की चुदाईjawanladkichootससुर बहु चुड़ै दिवाली पर हिंदी सेक्स स्टोरी कॉमबस में खड़ी खड़ी चुद गईtrien me mera gangbang fir room me antarvasna.comबुरका मेँ सैक्सी विडियो हिन्दी मे चूत देतीmardkanangabadanSex bare chuchi and chut or bare landहिंदी परिवार सेक्स स्टोरीजमम्मी को अंकल चोदने वाले थेantarvasna group potigand ka dard mitaya uncle nemasag palar vale kee antrvasnachoudashi haus waif .com kahaniSexstory vidwabhabhi pragnent हजारों sexhindiआयशा की गांड चुदाईFarheen baaji ki gandbulu filam ka garl ka bur ka photo chahiyचाची और बहन की चुदाईपरिवार,कि,चुत,चुदाओgodi me bitha kar land ragdaदोनो बेटेसे चुदि माँ कथामाँ बेटा राज शर्मा सेक्स स्टोरीजचुतचुत,